Friday, August 14, 2009

इल्तेज़ा

सोचते हो मेरे बारे मैं जब
आंखें होती है नम क्यों तब
भागते हो क्यों सच्चाई से
छुपा लेते हो क्यों मुझसे
कह तो देते बस एक बार
सोचती हूँ मैं बार बार
जानती हूँ हो नही सकती तुम्हारी
पर देती नही औरों को तुम्हारी बराबरी
रेगीस्तान के मंज़र पे चाहती हूँ प्यार के एक बूँद
चाहती हूँ झलक तुम्हारे प्यार का पाना
न मिल सकूंगी दोबारा कभी
न कह सकूंगी दिल की बात कभी
न जी सकूंगी कभी न मर सकूंगी कभी
बात चली पता अगर दूर कभी
रो भी न पाऊंगी फीर कभी ........................

6 comments:

  1. मंगलवार 30/04/2012को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं ....

    आपके सुझावों का स्वागत है ....
    धन्यवाद .... !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने लिखा....हमने पढ़ा
      और भी पढ़ें;
      इसलिए कल 30/04/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में)
      आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
      धन्यवाद!

      Delete
  2. बहुत खूब लिखा आपने | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete